रांची : झारखण्ड विधानसभा का नया भवन दो दिनों की भारी बारिश भी नहीं झे’ल पाया और उसकी फॉल्स सीलिंग गि’र गई है। गनीमत ये रही कि उस वक्त दफ्तर सामान्य दिनों की तरह नहीं चल रहा था लिहाजा कोई बड़ी दु’र्घटना नहीं हुई। ये हा’दसा पहले तल्ले के वेस्ट विंग कॉरिडोर की फॉल्स सीलिंग टू’टने से हुआ है।

छत गि’रने के बाद म’ची ख’लबली

इस घ’टना को विधानसभा सचिव ने काफी गं’भीरता से लिया है और भवन निर्माण विभाग को पत्र लिखकर सीलिंग की मरम्मती करने का आग्रह किया है। इसके साथ ही पूरे भवन में वॉटर लॉगिंग के साथ-साथ फॉल्स सीलिंग की स्थिति का जायजा लेने को कहा है। विधानसभा के नये भवन में कई जगहों पर पानी का सीपेज है। रखरखाव के अ’भाव में भवन के कई हिस्से ज’र्जर हो रहे हैं।

विधानसभा सचिव ने कहा है कि पूरे भवन की छानबीन होनी चाहिए। सामान्य दिनों के कामकाज में इस तरह की घ’टना हो गयी तो बड़ी मु’सीबत आ सकती है। विदित है कि झारखण्ड विधानसभा के नये भवन के लाइब्रेरी की सीलिंग भी पहले गि’र चुकी है। लाइब्रेरी की ऊपर की छत पर ज’लजमाव के कारण फॉल्स सीलिंग गि’रा था।

आपको बता दें कि झारखण्ड विधानसभा का नया भवन 465 करोड़ की राशि से बना है। 39 एकड़ में फैले इस नये विधानसभा परिसर का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। नया भवन 4 सालों में बनकर तैयार हुआ था लेकिन इसके निर्माण में गुणवत्ता को लेकर लगातार स’वाल खड़े हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here