Friday, November 26

बिहार में दूसरे राज्यों का वाहन चलाने वाले हो जाएं सा’वधान, क’ट सकता है 5000 रुपये का चालान, जानिए क्यों

पटना : बिहार परिवहन विभाग ने ट्रैफिक नियमों में एकबार फिर बड़ा बदलाव किया है, जिसे आपको जानना बेहद जरूरी है। परिवहन विभाग के मुताबिक अब दूसरे राज्यों का नंबर लेकर बिहार में वाहन चलाने वाले लोगों की मु’श्किलें बढ़ेंगी। नये नियम के मुताबिक अब दूसरे प्रदेशों का नंबर लेकर बिहार में गाड़ी नहीं चला सकेंगे।

दूसरे राज्य की गाड़ी चलाने वाले हो जाएं स’तर्क

बिहार में गाड़ी चलाने के लिए अब ये जरूरी है कि प्रदेश का स्थायी नंबर हो लेकिन ऐसा नहीं करने वालों पर अब 5 हजार रुपये का जुर्माना लग जाएगा। इस संबंध में परिवहन विभाग के सचिव के मुताबिक झारखण्ड या अन्य प्रदेशों से संबंधित वाहनों का बिहार में अवैध रुप से स्थायी तौर पर परिचालन करने वाले वाहन मालिकों पर कार्रवाई होगी।

परिवहन विभाग ने की का’र्रवाई

इस संबंध में सभी डीटीओ, एमवीआई और ईएसआई को विशेष अभियान चलाकर का’र्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। परिवहन विभाग के सचिव के मुताबिक अभी तक दूसरे राज्यों का नंबर लेकर बिहार में वाहन चलाने वाले 21 मालिकों पर का’र्रवाई हो चुकी है, जबकि मोटरवाहन अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत 487 वाहन चालकों पर का’र्रवाई की गई है। इसमें इंश्योरेंस, फिटनेस, हेलमेट और सीटबेल्ट की भी जांच की गई है।

ये है बड़ी वजह

परिवन विभाग के सचिव के मुताबिक टैक्स चो’री के उद्देश्य से और दूसरे कारणों की वजह से वाहन मालिक लग्जरी और अन्य वाहनों का रजिस्ट्रेशन झारखण्ड से कराते हैं और चो’री-छि’पे स्थायी तौर पर बिहार में इन्हें चलाते हैं। यह मोटरवाहन अधिनियम का उ’ल्लंघन है। इससे बिहार के राजस्व का नु’कसान होता है।

हालांकि झारखण्ड या अन्य राज्य के वास्तविक वाहन मालिकों को प’रेशान होने की जरूरत नहीं है। वे अपना पेट्रोल पंप रसीद, ड्राइविंग लाइसेंस, टोल प्लाजा का रसीद, आधार कार्ड या अन्य कोई प्रमाण पत्र दिखाकर झारखण्ड या अन्य राज्यसे आने का सबूत दिखा सकते हैं, जिसके बाद फा’इन नहीं लगेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *