न्यूज़ डेस्क : ट्रस्ट मैनेजमेंट कंपनी ने एक एमएफ लिक्विड फंड लॉन्च किया है. यह ओपेन एंडेड लिक्विड फंड मुख्य रूप से डेब्ट स्कीम और मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स में नि’वेश करने का मौका देगी. ट्रस्ट मैनेजमेंट कंपनी ने बताया कि इसमें 8 अप्रैल से एनएफओ के जरिए सब्सिक्रिप्शन के लिए खोल दिया जाएगा. निवेशकों के पास 22 अप्रैल तक निवेश करने का मौका होगा. इस लिक्विड फंड का मैनेजमेंट ​आनंद निव​तिया करेंगे. इसके पहले कंपनी ने जनवरी में 2021 में ही ट्रस्ट एमएफ बैंकिंग एंड पीएसयू डेब्ट फंड लॉन्च किया था.

जानिए इसके बारे में सबकुछ

एक्सपर्ट्स का कहना है कि ये एक लिक्विड फंड है. लिक्विड फंड म्यूचुअल फंड की डेट कैटेगरी में आते हैं. ये स्कीमें बहुत छोटी अवधि के मार्केट इंस्ट्रूमेंट में निवेश करती हैं. इनमें ट्रेजरी बिल, सरकारी प्रतिभूतियां और कॉल मनी शामिल हैं. लिक्विड फंड सेविंग बैंक अकाउंट के मुकाबले थोड़ा ज्यादा रिटर्न देते हैं. इनमें लिक्विडिटी की भी कोई समस्या नहीं है. यानी जब चाहें आप पैसा निकाल सकते हैं. यही कारण है कि निवेशकों के बीच इनकी लोकप्रियता बढ़ रही है. इन फंडों से पैसे निकालने के आवेदन करने के एक दिन के भीतर आपके खाते में पैसा आ जाता है.

जब कोई एसेट मैनेजमेंट कंपनी नई स्कीम लॉन्च करती है तो उसे एनएफओ कहते हैं. NFO के जरिए म्यूचुअल फंड ​कंपनियां शेयरों, सरकारी बॉन्ड्स जैसे इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश करने के लिए निवेशकों से पैसे जुटाती हैं.

क्या इस स्कीम में पैसा लगाना है फायदेमंद?

फाइनेंशियल प्लानर सुझाव देते हैं कि निवेशकों को छोटी अवधि लक्ष्यों के लिए लिक्विड फंडों में पैसा रखना चाहिए. यह छोटी अवधि एक दिन से लेकर छह महीने हो सकती है. इनका इस्तेमाल छोटी अवधि के लक्ष्यों के लिए किया जा सकता है. इनमें छुट्टी या किसी महंगे सामान की खरीद के लिए बचत शामिल है. कुल मिलाकर ये आपके वे लक्ष्य हो सकते हैं जिन्हें अगले 3 से 6 महीने में आप पूरा करना चाहते हैं. कई इक्विटी निवेशक भी लिक्विड फंडों का इस्तेमाल करते हैं.

इनके जरिये वे इक्विटी म्यूचुअल फंडों में पैसा ट्रांसफर करते हैं. इसके लिए सिस्टेमैटिक ट्रांसफर प्लान (STP)का उपयोग किया जाता है. निवेशक मानते हैं कि इस तरीके से उन्हें ज्यादा रिटर्न पाने में मदद मिलती है. साथ ही वे अस्थिरता से भी निपट पाते हैं.

क्रिसिल की मदद से चुनेंगे शेयर

ट्रस्ट मैनेजमेंट कंपनी ने बताया कि ट्रस्ट एमएफ लिक्विड फंड स्ट्रक्चर्ड इन्वेस्टमेंट एप्रोच को अपनाएगा ताकि रिस्क एडजस्टेड रिटर्न देने में मदद मिली. कंपनी ने कहा है कि इन शेयरों को चुनने के लिए क्रिसिल के तौर-तरीकों के साथ विकसित किया जाएगा. कंपनी ने बताया कि क्रिसिल ही ट्रस्ट म्यूचुअल फंड की शुरुआती डेब्ट स्कीमों के लिए नॉलेज पार्टनर के तौर पर काम करेगी.

ट्रस्ट म्यूचुअल फंड के सीईओ संदीप बंगला ने कहा, ‘हम निवेशकों को अलग तरह के सॉलुशन देने की कोशिश करते हैं. र्टस्ट एमएफ लिक्विड फंड सिर्फ उन कंपनियों के बॉन्ड मं निवेश करेगा, जिनकी लॉन्ग टर्म रेटिंग हाई के साथ-साथ स्थिर भी है.’ ट्रस्ट लिक्विड फंड के फंड मैनेजर ने आनंद ​नि​वतिया ने कहा, ‘हमारी लिक्विडिटी ज्यादा रहेगी. इसका कारण है कि पोर्टफोलियो की लिक्विडिटी क्रेडिट क्वॉलिटी और उसके निवशे पर निर्भर करती है. इसका कारण पोर्टफोलियो की साइज से लेना देना नहीं होता है.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here